नारी साहित्य लेखन: इतिहास विकास और वर्तमान

Rajesh Paswan, Preeti Kumari

Abstract


 नारी सृष्टि रूपी है | नारी सशक्तिकरण के युग में आज इस वर्ग का अस्तित्व आधी आबादी और आधी दुनिया के रूप में है| अब वह सृष्टि की मूल, पुरुष की जीवन संगिनी और उत्पत्ति की अनिवार्य आवश्यकता के रूप में प्रभावी भूमिका में है| पूराकाल से आज तक नारी जन्मदाट्री, पालनहारी, प्रेयसी, पुत्री, देवी, सती, दानवी और पवित्रता के प्रतिमान प्रस्तुत कर प्रकरती के स्रष्टी मंच पर विराजमान है|


Naari Sahitya Lekhan: Itihas Vikas Aur Vartman

Nari Sarshti rupi hai. nari sashktikarn ke yug mein aaj is varg ka astitv aadhi aabadi aur aadhi duniya ke rup mein hai. ab vah srshti ki mul, purush ki jivan sangini aur utpati ki anivarya aavashakta ke rup mein parbhavi bhumika mein hai. purakal se aaj tak nari janamdatri, palanhari, preyshi, putri, devi, sati, danvi aur pavitrata ke partiman prastut kar prakarti ke sarshti manch par virajman hai.



Keywords


Nari Sahitya,

Full Text:

PDF

Refbacks

  • There are currently no refbacks.




ISSN 2348 –0874